Sun. Apr 28th, 2024

रविवार को बांग्लादेश में पुलिस, विपक्ष के समर्थकों के साथ झड़प कर रही थी, आंसू गैस और रबर की गोलियां चला रही थी, क्योंकि बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) के समर्थकों ने प्रधान मंत्री शेख हसीना के इस्तीफे की मांग को लेकर राजधानी सड़कों पर उतर आए हैं

 

बीएनपी के मुताबिक, पुलिस के लाठी चार्ज में उसके दर्जनों समर्थक घायल हो गए हैं और 120 से ज्यादा सदस्यों को गिरफ्तार किया गया है। बांग्लादेश में बढ़ती महंगाई और जीवनयापन के संकट के बीच, देश में आर्थिक संकट गहरा रही है और बीएनपी ने हाल के महीनों में कई बड़ी विरोध रैलियां आयोजित की हैं, और उसके हजारों पार्टी समर्थक सड़कों पर उतर आए हैं।

बांग्लादेश में मौजूदा उथल-पुथल सबसे गंभीर राजनीतिक संकटों में से एक है., जिसका हसीना और उनकी अवामी लीग पार्टी ने हाल के वर्षों में सामना किया है। लिहाजा, आइये जानते हैं, कि चुनाव से पहले बांग्लादेश में हो रहा विरोध प्रदर्शन, क्या शेख हसीना सरकार के लिए खतरे की घंटी है?

बीएनपी चाहती है, कि प्रधान मंत्री हसीना पद छोड़ दें और जनवरी 2024 में होने वाला अगला चुनाव एक तटस्थ कार्यवाहक सरकार के तहत हो।

शुक्रवार को एक रैली के दौरान, बीएनपी महासचिव मिर्जा फखरुल इस्लाम आलमगीर ने कहा कि “इस सरकार के तहत निष्पक्ष चुनाव होने की कोई गुंजाइश नहीं है।

उन्होंने कहा, कि “देश की हर महत्वपूर्ण संस्था को नष्ट कर दिया गया है और लोगों के अधिकार छीन लिए गए हैं।” आलमगीर ने समर्थकों से कहा, “हर जरूरी चीज की कीमतों में बढ़ोतरी ने लोगों के जीवन को दयनीय बना दिया है।

बीएनपी, जिसकी नेता और पूर्व प्रधान मंत्री खालिदा जिया भ्रष्टाचार के आरोप में प्रभावी रूप से घर में नजरबंद हैं, उन्होंने पहले प्रधानमंत्री शेख हसीना पर 2014 और 2018 में वोट में धांधली का आरोप लगाया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *